17 साल बाद रविवार और मकर संक्रांति पर बना महायोग, राशि अनुसार ये उपाय करना न भूलें

हर साल की तरह इस साल भी हम 14 जनवरी को मकर संक्रांति मनाएंगे और इस बार की मकर कुछ खास है क्योंकि इस बार जो संक्रांति मनाई जाएगी वो रविवार के दिन मनाई जाएगी और इससे पहले 2001 में ऐसी मकर संक्रांति आई थी जब हम रविवार के दिन इस पर्व को मनाये थे मतलब की पूरे 18 साल बाद ऐसा महासंयोग फिर से बन रहा है| जैसा की हम जानते है की जब सूर्य जब धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है, तब मकर संक्रांति मनाई जाती है| इसके साथ ही इस मकर संक्रांति के दिन सूर्य दक्षिणायन से उत्तरायण होगा जिससे की संक्रांति के पूरे दिन पूरे दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बना रहेगा।

सूर्य देव के महापर्व यानि मकर संक्रांति के दिन दान का बहुत ही महत्व है और ये काफी प्राचीन प्रथा भी है इसीलिए इस दिन आप दान पूण्य अवश्य करें इससे आपको जीवन के सभी दुखो से मुक्ति मिलती है |ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि आपके कुंडली में किसी भी प्रकार का ग्रह दोष है तो इसके लिए आप संक्राति के महापर्व पर अपनी राशि के अनुसार कुछ उपाय करके उसे हमेशा के लिए दूर कर सकते हैं |

आइये बताते है आपको की संक्राति के दिन किस राशि के लोगो को क्या क्या उपाय करना है

मेष राशि

मेष राशि के लोग इस दिन दर्पण, मच्छरदानी एवं तिल का दान करें इससे शुभ फल की प्राप्ति होगी

वृष राशि

वृष राशि के जातकों को ऊनी वस्त्र और अनाज का दान करने से लाभ मिलेगा

मिथुन राशि

मिथुन राशि के लोगों को कंबल, तिल के लड्डू का दान करना चाहिए।

कर्क राशि
कर्क राशि के लोग साबूदाना, शहद का दान करें इससे उनके सभी कष्ट दूर हो जायेंगे

सिंह राशि

सिंह राशि वाले लोगों को चने की दाल और घी का दान करने से शुभ फल की प्राप्ति होगी

कन्या राशि
कन्या राशि के जातक गरीबों को चादर और गर्म वस्त्रों का दान करें।

तुला राशि

तुला राशि के लोग गुड़ तिल का तेल और चावल का दान करें।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि के लोग दूध, दही और तिल से बने व्यंजन का दान करें।

धनु राशि

धनु राशि के जातक गाय को घास खिलाएं और हल्दी का दान करें।

मकर राशि

मकर राशि के जातक उड़द की दाल, सरसों तेल और राई का दान करें।

कुंभ राशि

जिन लोगो की राशि कुंभ है, वे लोग का ले तिल और तेल का दान करें।

मीन राशि

मीन राशि वाले लोग संक्रांति के दिन गेहूं, गुड़ और कंबल का दान करें।
Share this on

Leave a Reply