Monday, December 18

जानें, ग्रीन-टी से जुड़े वो 7 झूठ जिन्‍हें आजतक सच मानते आ रहे थें आप

ग्रीन टी के बारे में तो हम सभी जानते है और यह भी सुनते आ रहे है कि ग्रीन टी पिने के ढेरो फायदे है आज कल ग्रीन टी पीना तो क्रेज बन गया है क्योकि ग्रीन टी को फ़िल्मी दुनिया से जोड़ा जाता है। अक्सर कई बॉलीवुड के स्टार ने अपनी स्लिम बॉडी और फिटनेस का राज ग्रीन टी को बताया है जिसके कारण ग्रीन टी काफी प्रचलित हो चूका है।

ग्रीन टी अक्सर लोग इसलिए पीते है कि ये बहुत फायदेमंद होने के साथ साथ वजन भी घटाता है कुछ ऐसे ही बहुत से कथन है जो ग्रीन टी के बारे में कहा जाता है लेकिन आज हम आपको उनमे से ही कुछ ऐसे झूठ बतायेगे जो ग्रीन टी जुड़े हुए है, जिन्हें हम अब तक सच मानते है आ रहे है :-

1- जितना ग्रीन टी पियो उतना अच्छा

यह भी पढ़ें: चाहें कितना भी पुराना हो घुटने, कंधे, कमर, हाथ व कलाई दर्द सबका एक यही है रामबाण नुस्‍खा

ग्रीन टी को लेकर अक्सर ऐसा कहाँ जाता है कि ग्रीन टी का सेवन करने से वजन कम होता है। आप जितना ग्रीन टी पिएंगे वजन उतना ही ज्यादा कम होगा। लेकिन वजन कम करने के लिए दिन में 3 कप ग्रीन टी पीना काफी है। इससे ज्यादा पीने पर सिर में दर्द और डायरिया भी होने का डर होता है। तो आप भी 3 कप से ज्यादा हरी चाय न पिएं।

2- सुबह खाली पेट फायदेमंद है ग्रीन टी

 

ग्रीन टी अब ये बात किसी से छुपी नहीं है कि सुबह पेट खाली होता है। खाली पेट पानी पीने के कई फायदे होते हैं, लेकिन आजकल ये कहा जा रहा है कि खाली पेट ग्रीन टी पीने से सेहत अच्छी रहती है। हम आपको बताते हैं कि ग्रीन टी में कैफीन होता है, खाली पेट इसे पीना हानिकारक हो सकता है। आपको एसिडिटी भी हो सकती है। दिन में ग्रीन टी पीना ज्यादा अच्छा है।

3- ग्रीन टी से नींद पर असर नहीं

 

बहुत लोगो का यह मानना है कि नार्मल टी के मुकाबले में ग्रीन टी का सेवन करने से नींद पर कोई असर नहीं होता है। जबकि ऐसा है नहीं ग्रीन टी के एक कप में 25 मिलिग्राम कैफीन पायी जाती है, जो रात की नींद को इफ़ेक्ट हो करती है। तो ग्रीन टी का सेवन उतना ही करे जितना नुकसानदेह न हो।

4- एसिडिटी होने पर ग्रीन टी पिएं

 

काफी लोगो का मानना है कि ग्रीन टी काफी मर्जो का इलाज है, एसिडिटी होने पर ग्रीन टी पीने से काफी फायदा होता है। ग्रीन टी को भी लेकर यह भी कही जाने वाली बात गलत है, असल में ग्रीन टी में टैनिन पाया जाता है,  जो एसिडिटी बढ़ने का चांस बढ़ा देती है तो इसलिए दिन में 3 कप से ज्यादा ग्रीन टी पिने से एसिडिटी हो सकती है।

5- गर्भावस्था में ग्रीन-टी फायदेमंद

बहुत लोगो का यह भी मानना है कि ग्रीन टी प्रेग्नेंसी के दौरान महिला जितना ग्रीन टी का सेवन करेगी उतना ही उसके लिए अच्छा होगा। जबकि ऐसा नही है, ग्रीन टी में कैफीन और टैनिन्स होते हैं। ग्रीन टी का ज्यादा सेवन प्रेग्नेंसी के दौरान हानिकारक भी हो सकता है। ग्रीन टी से माँ और बच्चे दोनों को हानि हो सकती है।

6.पुरानी ग्रीन टी, उतनी अच्छी

ग्रीन टी न हुई शराब हो गई, जितनी पुरानी उतनी अच्छी, लोग भी क्या क्या बातें बना देते हैं। ग्रीन टी जितनी पुरानी होती है वो उतनी ही बेकार हो जाती है। 6 महीने से ज्यादा पुरानी ग्रीन टी से एंटी ऑक्सिडेंट्स पावर कम हो जाती है। इसलिए ग्रीन टी को लंबे समय तक बचा कर रखने से बचें, इसको लाएं और इस्तेमाल करें। ये चाय है शराब नहीं कि जितनी पुरानी उतनी अच्छी

 

7- ग्रीन-टी का कोई साइड इफेक्ट नहीं

 

बहुत सारे लोगो का यह भी मानना है कि ग्रीन टी साइड इफेक्ट नहीं होता बल्कि ग्रीन टी जितनी पुरानी हो उतनी ही अच्छी है जब की ऐसा नही है। ग्रीन टी के भी कुछ साइड इफेक्ट हैं। ज्यादा ग्रीन टी पीने से शरीर में कैल्शियम अब्सॉर्ब्शन कम हो जाता है जिससे हड्डियां कमजोर,  शरीर में खून की और भी काफी कुछ हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *