नया साल नई उम्मीदें 2019 : काशी में सपने लेने लगे आकार, बस अब पूरे होने का है इंतजार

नया साल काशी के लोगों के लिए काफी अच्छा होने वाला है। लोगों की काफी उम्मीदें हैं और सपने भी जो की सच होने वाले हैं। ये वर्ष काशीवासियों के लिए नई उम्मीद की किरण ले कर आया है। वाराणसी में विकास के लिए अभी तक से 30 हजार करोड़ रु से भी ज्यादा खर्च कर दिए गए हैं। बहुत जल्द ही इसका लाभ काशी वालों को मिलने वाला है। काशी के लोगों की मूलभूत समस्याओं का समाधान करने के लिए काफी योजनाएं बनाई जा रही है और उन योजनाओं पर काम भी जारी है।

जन समस्याओं का समाधान

काशी में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर नए साल में शुरू हो जाएगा। इसके हो जाने से जन समस्याओं के समाधान के लिए अलग अलग जगह जाने की जरूरत नहीं होगी , सारी सुविधा उन्हें एक ही जगह से मुहैया कराई जाएंगी। बिजली , पानी , सड़क , सिवर तथा सफाई के क्षेत्र में चल रहे कार्य पहले से और बेहतर होंगे। इसके तहत शाही नाले की सफाई पूरी ही जाएगी। एसटीपी को भी अच्छी तरह से शुरू किया जाना है। वाराणसी के आस पास के जिलों को जोड़ने के लिए सड़कों की चौड़ीकरण के काम को भी पूरा किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-काशी के इस मकान में लोग आकर करते हैं मौत का इंतजार, 15 हजार से भी ज्यादा लोगों ने यहां त्यागे प्राण

पर्यटन बढ़ेगा

प्रयासी भारतीय सम्मेलन तथा प्रयागराज में लग रहे कुंभ के मेले से लोगों में पर्यटन को ले कर ढेरों उम्मीदें हैं। यहां पर देश विदेश से आने वाले पर्यटकों के उपर पर्यटन स्थल को ले कर काफी अच्छी छवि बनेगी। पिछले साल काशी दर्शन के लिए चार लाख से ज्यादा पर्यटक आए। उम्मीद किया जा रहा है कि इस साल पर्यटकों का एक अलग ही रिकॉर्ड बनेगा।

शुरू होंगी कई नई स्वास्थ्य सेवाएं

नए साल में बीएचयू के अस्पताल परिसर में सुपर स्पेशियलिटी सेंटर खुलने वाली है तथा महामना मालवीय कैंसर संस्थान में इलाज तथा मरीजों की जांच से संबंधित सेवाएं 2019 के जनवरी महीने से शुरू हो जाएगी। इसके अतिरिक्त वाराणसी स्थित दीनदयाल अस्पताल में महिलाओं के लिए पचास बेडों के अस्पताल खोले जाने की सूचना है। फिर उसके बाद कबिरचौरा महिला अस्पताल में 100 बेड का मैर्टिनिटी विंग की शुरुआत भी मार्च तक हो ही जाएगी।

शिक्षा क्षेत्र में कई नए कदम

नए वर्ष में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में नए सत्र से चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम की शुरुआत इसी वर्ष होने वाली है। इसके अतिरिक्त वास्तुशास्त्र ,आर्किटेक्ट , डिजास्टर मैनेजमेंट को ले कर और भी कई सारी पाठ्यक्रमों की शुरुआत होने वाली है। इसके साथ साथ डिजिटलाइज्ड लाइब्रेरी की भी शुरुआत होगी।

और बेहतर होंगी रेल और बस सेवा

इस साल पांच अन्य प्लेटफार्मो से ट्रेनों के संचालन की व्यवस्था शुरू की जाएगी। नए साल में इलेक्ट्रिक बसों का भी संचालन शुरू होने वाला है। रेल इंजन में 12000 अश्वशक्ति की क्षमता के साथ तैयार होंगे।

Share this on