कालाष्टमी 2019 : इस दिन कर लें ये महाउपाय, हर मनोकामना पूरी करेंगे काल भैरव

काल भैरव महादेव के अवतार माने जाते हैं, इनका जन्म काल भैरव अष्टमी वाले दिन हुआ था| बता दें कि प्रत्येक माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को कालाष्टमी तिथि को भगवान भैरव की विशेष पूजा-अर्चना की जाती हैं, तंत्र-मंत्र के साधक इन्हें सबसे शक्तिशाली बताते हैं और यदि इनकी सच्चे मन से आराधना किया जाए तो ये अपने भक्त के ऊपर कभी भी कोई विपत्ति नहीं आने देते हैं| ऐसे में इस साल काल भैरव की विशेष पूजा तिथि 25 जून को हैं, इसलिए आज हम आपको काल भैरव की पूजा और उपाय के बारे में बताने वाले हैं और यदि आप इस विधि से काल भैरव की पूजा और उपाय करते हैं तो आपके ऊपर भगवान भैरव की कृपा हमेशा बनी रहेगी|

पूजा विधि

यदि आप काल भैरव की पूजा करना चाहते हैं तो इनके साथ देवी दुर्गा की पूजा अवश्य करे| दरअसल यदि आप देवी दुर्गा के दर्शन करते हैं तो आपको काल भैरव के भी दर्शन करना जरूरी हैं| ऐसा माना जाता हैं कि जो भी साधक इनकी पूजा-अर्चना करता हैं, उसके ऊपर कभी भी कोई विपत्ति नहीं आती हैं, इसलिए इनकी पूजा अवश्य करे| इसके अलावा शास्त्रो में काल भैरव का वाहक कुत्ते को बताया गया हैं और यदि आप कुत्ते को मीठी रोटी खिलाते हैं तो काल भैरव आप से प्रसन्न रहते हैं|

कालाष्टमी पर करे यह उपाय

(1) यदि आप अपनी कोई मनोकामना पूरी करना चाहते हैं तो आप कालाष्टमी के दिन काल भैरव के मंदिर में जाकर भगवान शिव की पूजा करे क्योंकि काल भैरव उन्हीं के अंश हैं| इस विशेष दिन पर आप 21 बेलपत्र पर चन्दन से ‘ॐ नमः शिवाय’ लिखकर शिवलिंग पर अर्पित कर दें और फिर विधि-विधान पूर्वक पूजा करे| इस उपाय को करने से आपकी सभी मनोकामना पूरी होगी|

(2) यदि आप कालाष्टमी तिथि से लेकर 40 दिनों तक लगातार काल भैरव के मंदिर में जाकर उनकी पूजा-अर्चना करें और काल भैरव चालीसा का पाठ करते हैं तो आपको लाभ प्राप्त होगा| इतना ही नहीं यदि आप इस दिन जाकर काल भैरव के मंदिर में बस उनकी पूजा-अर्चना विधि-विधान पूर्वक करते हैं तो आपके जीवन में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं आएगी|

यह भी पढ़ें : इस रविवार कुत्तो को कराएँ भोजन ,जीवन में होगा शुभता का संचार

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on