आईएसएल-4 में केरल और कोलकाता के बीच मुकाबला गोलरहित ड्रॉ

फुटबॉल प्रेमियों के लिए अब इंडियन सुपर लीग (आइएसएल) के चौथे सीजन का  आरम्भ हो चूका है। 17 नवम्बर शुक्रवार को फुटबॉल की सबसे बड़ी लीग की शुरूवात हुई। टूर्नामेंट की शुरवात दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में मेजबान केरला ब्लास्टर्स एफसी और एटलेटिको डि कोलकाता (एटीके) के बीच हुआ। आपको हम यह भी बता दे कि जो इस लीग में जीतेगा उसको एएफसी कप में सीधे प्रवेश मिलेगा। जो एशिया में वही एहमियत रखता है, जो यूरोप में यूरोपा लीग का है। पहला मैच मेजबान केरला ब्लास्टर्स एफसी और चैम्पियन एटीके के बीच हुआ जिसमे दोनों ने बिना गोल बनाये मैच बराबरी पर ही रोक दिया।

आपको यह भी बता दे कि पिछले सीजन इसी मैदान पर एटीके ने केरला को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से मात देकर दूसरी बार आईएसएल का खिताब जीता था। जबकि निश्चित समय की समाप्ति तक दोनों टीमों ने 1-1 गोल करके बराबरी पर थीं। मैच में दो टीमों के बीच आक्रामक मैच हुआ जैसा कि सभी पहले से अपेक्षा कर रहे थे। लेकिन एटीके टीम केरला टीम से ज्यादा आक्रामक रूप में दिखी। वहीँ इसी टीम ने सबसे ज्यादा समय तक गेंद अपने पास ही रखी थी। दोनों टीमों ने गोल करने के मौके तो बनाए थे, लेकिन दोनों ही टीमे गोल करने में असमर्थ रहीं।

यह भी पढ़ें: भारत में तैयार हुआ दुनिया का सबसे शानदार स्‍टेडियम, अब बारिश आने पर भी नहीं रूकेगा मैच

अगर मैच की बात करे तो स्टार्टिंग के 14वें मिनट में एटीके के हितेश शर्मा ने गोल करने की कोशिश की लेकिन किक के बीच केरला के गोलकीपर पॉल राचबुका आ गए जिससे वो असफल हो गये। फिर पहले हाफ के एक्स्ट्रा टाइम में मिलान ने गोल करने की कोशिश की लेकिन उनका शॉट गोलपोस्ट से बहुत बाहर चला गया। दूसरे हाफ के शुरुआत होते ही केरला ने आक्रामक होकर खेला और सीके विनीत 51वें मिनट में गोल करने का प्रयास किया लेकिन गोलपोस्ट पर निशाना लगाने के बाद गेंद सीधे गोलकीपर के हाथों में गई। 58वें मिनट में एटीके को कॉर्नर किक मिली जिसमे मोंटेल ने हैडर लगाते हुए गेंद को नेट में डालने की कोशिश की लेकिन तभी राचबुका बीच में आ गए। लगभग 10 मिनट के बाद केरला टीम के पैकुसन ने गेंद को लिया और अकेले ही गोलपोस्ट की ओर भागने लगे।

गोलपोस्ट के करीब जाते ही जोर्डी मोंटेल ने गेंद को छीन लिया। मैच में गोल करने का सबसे करीबी मौका 71वें मिनट में आया। जब एटीके के जोस ब्रांको ने गेंद को नेट में डालना चाहा लेकिन गेंद बार से टकरा के वापस आ गई।  तीन मिनटो के बाद पेकुसन को चोट लग गयी और उन्हें बाहर ले जाया गया। दोनों ही टीमो ने अंत तक गोल करने का प्रयत्न किया लेकिन दोनों टीमो में से सफलता किसी को भी हासिल नही हुई और दोनों बराबरी पर गईं।

इस मैच को देखने के लिए दर्शको में भी उत्साह देखा गया साथ ही हजारों की तादाद में आये केरला के दर्शको की मौजूदगी ने मेजबान केरला का आत्म और मनोबल बढाया।
Share this on

Leave a Reply