यात्रीगण कृप्‍या ध्‍यान दें, चूहे की वजह से कट गई रेलवे की नाक

भारत का हर नागरिक कभी न कभी ट्रेन में सफर किया ही होता है। ऐसे में ट्रेन सफर के दौरान कई लोगो के अलग अलग यादे बन जाती हैं। कभी कभी कई यात्रियों को कई कष्टों का सामना करना पड़ाता है, तो कभी कभी कुछ यात्रियों के लिए यह यात्रा काफी रोमांचक हो जाती है। लेकिन आज जो हम आपके लिए खबर लाये है, उसे जानने के बात आप हैरान हो जाएँगे। यह  घटना दिल्ली से मुंबई जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस में हुआ है, जिसमे एक बुजुर्ग व्यक्ति ने यह दावा किया कि रेल में यात्रा के दौरान उन्हें चूहे ने काटा लिया।

आज हम आपको जिस घटना के बारे में बताने जा रहे उसमे 65 वर्षीय ब्रिजभूषण सूद ने बताया कि उन्हें एक चूहे ने काट लिया जिसके बाद उनके शरीर से खून बहने लगा। इतना ही नही उन्हें ट्रेन कर्मियों के द्वारा इमरजेंसी सुविधा भी नहीं दी गई।

यह घटना 7 जनवरी को घटित हुई, जिसके बाद उन्होंने इस घटना की सूचना टिकट चेकर को दी लेकिन स्टेशन पहुंचने के बाद भी उन्हें तुरंत कोई मेडिकल सुविधा प्रदान नहीं की गई। वहीँ  ब्रिजभूषण सूद ने परेशां हो कर कहा कि नगाड़ा के बाद रतलाम पर भी मेडिकल टीम को सूचित नहीं किया गया जबकि मेरे शरीर से काफी खून बह रहा था। काफी देर बाद वडोदरा स्टेशन पर एक महिला डॉक्टर आयी लेकिन उन्होंने कोई हेल्प नहीं कि जिससे उन्हें कोई लाभ मिले। ब्रिजभूषण सूद ने यह भी बताया कि नगाड़ा से वडोदरा तक के सफर के साढ़े तीन घंटे तक उनके कान से खून बहता रहा। यहाँ तक की खून से उनका रूमाल भीग चुका था।

यह भी पढ़े : ट्रेन के इन पांच नम्बरों में छिपी होती है ट्रेन की सारी जानकारी, जानें कैसे

ब्रिजभूषण सूद ने यह भी कहा कि उस महिला डॉक्टर ने मुझे कुछ दवाई तो लेकिन हार्ट पेशेंट होने के कारण मैंने उनके द्वारा दी हुई दवाई को खाना नहीं पसंद किया। मैं डॉक्टर को अपनी दवा दिखाना चाहता था लेकिन उन्होंने एक बार भी मेरी दवाई नहीं देखी। महिला डॉक्टर ने सूद को कुछ दवा देकर पर्ची देते हुए कहा कि मुंबई जाकर दवाई ले लेना। मंबई जाकर डॉक्टर को दिखाया जिसने 500 रुपये फीस ली और साथ ही इंफेक्शन न फैले इसलिए इंजेक्शन लगाया।

वहीँ इन सब के बाद इस मामले में रेलवे के डॉक्टर ने यह बताया कि यह कोई चूहे काटने के कारण नहीं हुआ है बल्कि यह केवल रैश था। साथ ही ट्रेन के तकिए पर उनके खून के निशान मिले है। इस मामले पर रेलवे अधिकारियों का कहना है कि 5 जनवरी को ही कीड़े मारने वाली दवाई का छिड़काव किया गया था और चूहों को रोकने के लिए हर प्रक्रिया की व्यवस्था की गयी है।

Share this on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *