भारत में ‘चिकेन पॉक्स’ को क्यों कहा जाता है ‘माता’, जानें क्या है माता के निकलने का कारण

2 views

चिकेन पॉक्स या चेचक रोग जिसे हिन्दू धर्म में लोग माता का प्रोकोप मानते है जिसमे व्यक्ति के शरीर पर लाल और छोटे दाने होने लगते हैं, जिसमें काफी खुजली होती है। भारत के ज्यादातर इलाकों में इस बीमारी को माताजी आना कहा जाता है। अगर हम साइंटिफिक वे में इस बीमारी को लेते है तो लिहाजा ये एक नार्मल बीमारी है लेकिन लोगो की मान्यताओ के अनुसार चिकन पॉक्स को खासकर शीतला माता से जोड़ा जाता है।

शीतला माता को मां दुर्गा का रूप माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि उनकी पूजा करने से चेचक, फोड़े-फूंसी और घाव ठीक हो जाते हैं। दरअसल, शीतला का अर्थ होता है ठंडक। चिकन पॉक्स होने पर बॉडी में काफी इरिटेशन होती है और उस वक्त सिर्फ बॉडी को ठंडक चाहिए होती है। इसलिए कहा जाता है कि शीतला माता की पूजा करने से वो खुश हो जाती हैं, जिससे मरीज की बॉडी को ठंडक पहुंचती है।मान्यताओं के मुताबिक, चिकन पॉक्स उस इंसान को होता है, जिसपर माता का बुरा प्रकोप पड़ता है। लेकिन ऐसा नहीं है आज हम आपको इस मान्यता की सच्चाई बतायेगे क्योंकि भगवन कभी अपने भक्तो को कष्ट नहीं देते है।

भारत में माता आना  जो की एक इन्फेक्शनल बीमारी है उसे माता के प्रकोप से जोड़ दिया गया है क्योकि 90 के दशक तक चिकन पॉक्स के इंजेक्शन नहीं मौजूद थे।  इसीलिए इस बीमारी का कोई इलाज नहीं था  आज हम आपको चिकेन पॉक्स के बारे में कुछ रियल फैक्ट बताएँगे। जिस व्यक्ति को माता निकलती है उसके पास जाने से मना किया जाता है इसकी वजह कुछ और नहीं बल्कि ये है की चेचक हवा से फैलने वाली बीमारी है, इसीलिए संक्रमण से बचने के लिए मरीज को सबसे दूर रखा जाता है।

यह भी पढ़े : तो इस वजह से महिलाएं नहीं फोड़ती नारियल, जानें क्‍या है कारण

माता निकलने पर मरीज को सिर्फ नीम की पत्तियों पर ही सुलाया जाता है क्योंकि नीम को एंटी बैक्टीरियल माना जाता है, जो धीरे धीरे इन्फेक्शन को दूर करता है। चिकेन पॉक्स में तेल से बनी चीजे खाने से मना किया जाता है और घरो में सब्जी ये कुछ भी तला भुना नहीं बनता क्योंकि इस दौरान मरीज का लीवर कमजोर हो जाता है। इस कारण तेल मसाले का खाना बंद कर दिया जाता है।

अक्सर हमे माता आने पर शरीर को तौलिये से पोछने के लिए भी , इसका कारण ये है की स्किन पोछने के कारण इन्फेक्शन बढ़ने के चान्सेस होते हैं। लोगो की मान्यता है की किसी व्यक्ति को अगर एक बार माता आती है तो दोबारा नहीं आतीं है लेकिन सच तो यह है की एक बार इंजेक्शन लग जाने के बाद इंसान को दुबारा चिकन पॉक्स नहीं होता। और जिसे बचपन में ही चिकेन पॉक्स का इंजेक्शन लग जाता है उसे कभी माता नहीं आती है।

Share this on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *