सामने आई साईं बाबा की 100 साल पुरानी तस्वीरें, देखकर मंत्रमुग्ध हो जायेंगे आप

शिरडी के साईं बाबा एक भारतीय गुरु , योगी और फकीर हैं। इनके नाम के आगे “थे” लगाना उचित नहीं है क्यूंकि साईं आज भी सबके बीच उपस्थित हैं। उनके भक्त उन्हें संत कहा करते थे। साईं बाबा मुस्लिम परिवार के हैं। उनका आदर्श वाक्य ” सबका मालिक एक ” है। शिरडी के बाबा लोगों को प्रेम ,क्षमा , दूसरों की सहायता,दान ,संयम , आत्मिक शांति तथा भगवान और गुरु के लिए समर्पण की शिक्षा देते थे। मुस्लिम हो या हिन्दू दोनों ही धर्म के लोग इनका आदर सत्कार पहले भी किया करते थे और जब इनका जीवन काल समाप्त हुआ तब भी करते हैं।

इनका जन्म 27 सितम्बर 1830 को महाराष्ट्र के पाथरी गांव में हुआ था और इनकी मृत्यु 15 अक्टूबर 1918 को शिरडी में हुई थी। इनसे जब इनकी पहली जिंदगी के बारे में पूछा जाता तो ये बातों को घुमा फिरा के उत्तर दिया करते थे। साईं बाबा यही चाहते थे और ऐसा कह सकते हैं कि उनका ये मिशन था कि लोगों के प्रति एकेश्वरवाद की तरफ विश्वास पैदा करना। साईं बाबा का ज्यादातर समय मुस्लिम फकीरों के साथ ही बीतता था। लेकिन ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने किसी के साथ धर्म एल आधार पर व्यवहार नहीं किया। वे सबको समान दृष्टि से देखा करते हैं।

यह भी पढ़ें-गुरुवार के दिन करेंगे ये उपाय तो साई बरसाएँगे अपनी अपार कृपा

जहां इनका जन्म हुआ था महाराष्ट्र के पाथरी में वहां पर एक मन्दिर बनवा दिया गया है जिसमें उनकी आकर्षक मूर्ति रखी हुई है। बाबा का यही निवास स्थान है जहां पर उनकी पुरानी वस्तुएं जैसे कि बर्तन , घट्टी तथा देवी देवताओं की प्रतिमा हैं। आज के पोस्ट के माध्यम से हम आपको साईं बाबा की कुछ दुर्लभ तस्वीरें दिखाने वाले हैं। आज साईं बाबा की जो तस्वीरें हम आपके सामने पेश करने वाले हैं वो तस्वीरें तकरीबन 100 साल से भी अधिक पुरानी हैं। इस बात की कोई जानकारी नहीं मिली है कि ये तस्वीरें किसने ली हैं।

इस तस्वीर में साईं बाबा अपने प्रिय शिष्यों के साथ नजर आ रहे हैं

शिरडी स्थित एक बाज़ार में साईं बाबा की तस्वीर

शिरडी में ही द्वारिका माई के चबूतरे पर बैठे हुए साईं बाबा की तस्वीर

मासूम जानवरों को दुलार करते बाबा कि तस्वीर

Share this on