Friday, December 15

जानें, शराब पीने की लत को कैसे छुड़ाया जा सकता है क्‍या है इसका वैज्ञानिक तरीका

शराब पीना एक शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है और इसे पीना भी सबसे बुरी लत है। शराब पिने से हमारी दोनों ही किडनियां ख़राब हो जाती है। साथ ही हमारे शरीर के अन्य हिस्सों पर भी काफी असर पड़ते है। ऐसे कई लोग होते है जो शराब पीना छोड़ना तो चाहते है लेकिन चाहकर भी छोड़ नही पाते है। शराब दुनिया में सबसे अधिक खपत होने वाला नशीली पदार्थ है। आपने कभी यह सोचा है कि लोगो को शराब पीने की इतनी तीव्र इच्छा क्यों होती है? क्या है इसका कारण?

इसको समझने के लिए आपको जैविक तंत्रों के बारे में जानना अति आवश्यक है। साथ ही शराब पिने के लिए हमारे मस्तिष्क के प्रतिरक्षा प्रणाली की भी अहम भूमिका होती है। तो आज हम आपको इस आदत के पीछे का वैज्ञानिक तरीका बताने जा रहे है, आखिर क्यों शराब पीने की तीव्र इच्छा उत्पन्न होती है। तो आइये जानते है-

यह भी पढ़े :- नशे में टुुुुन्न होकर ऐसे दिखते हैं हमारे बॉलीवुड स्टार, तस्वीरें आई सामने

यूनिवर्सिटी ऑफ एडिलेड के वैज्ञानिकों ने यह बताया है कि शराब पीने की इच्छा हमारे मस्तिष्क की प्रतिरक्षा प्रणाली और इम्यून सिस्टम से सीधा सम्बन्ध रखती है। इस बात को सिद्ध करने के लिए वैज्ञानिकों ने एक प्रयोगशाला में चूहों के मस्तिष्क में एक दवा दी जिससे उसकी शराब पीने की इच्छा समाप्त हो गई।

इस प्रयोग में वैज्ञानिकों ने टीएलआर 4 जो एक रिसेप्टर है, उस पर ध्यान दिया। वैज्ञानिको ने  नॉलट्रेक्सोन नामक एक ड्रग को चूहों को दिया। जो चूहे के टीएलआर-4 को ब्लॉक कर दिया। इस ड्रग के देने से यह पता चला कि चूहों के शराब पीने की इच्छा में बहुत कमी आई है। इस ड्रग का नाम नाल्ट्रेक्सोन है। जिसका प्रयोग अक्सर रात के समय में किया जाता है। इसका सेवन करने से शराब पीने की इच्छा खत्म हो जाती है।वैज्ञानिको के इस प्रयोग से यह निष्कर्षों निकलता है कि मस्तिष्क की प्रतिरक्षा प्रणाली को अगर रोक दिया जाए तो शराब पीने की इच्छा खत्म हो जाएगी।

वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि अभी यह प्रयोग इंसानों पर नही किया गया है, जल्दी ही वो इंसानों पर भी यह प्रोयोग कर के देखेंगे। लेकिन आप अपने दिमाग की प्रणाली को कंट्रोल करके शराब पीने की लत छुड़ा सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: