Friday, December 15

आज से शुरू हो रहा भगवान कृष्ण का प्रिय महीना, जानिए कैसे करें कान्हा को प्रसन्‍न

हिंदू पंचांग के अनुसार, अगहन का महीना शुरू होने वाला है। यह ऐसा महीना है जिसे भगवान कहते हैं कि मैं खुद यही महीना हूं। इस महीने में ईश्वर होने के सर्वाधिक गुण पाए जाते हैं। इसे मार्गशीर्ष या अगहन का महीना कहते हैं। इसे अग्रहायण भी कहते हैं। हिंदू शास्त्रों में इस माह को सबसे पवित्र महीना माना जाता है।

पुराणों के अनुसार, विधि-विधान से अगहन मास में शंख की पूजा की जानी चाहिए। जिस प्रकार सभी देवी-देवताओं की पूजा की जाती है, वैसे ही शंख का भी पूजा करें। इस मास में साधारण शंख की पूजा भी पंचजन्य शंख की पूजा के समान फल देती है।

सभी वैदिक कामों में शंख का विशेष स्थान है। शंख का जल सभी को पवित्र करने वाला माना गया है, इसी वजह से आरती के बाद श्रद्धालुओं पर शंख से जल छिड़का जाता है। साथ ही शंख को लक्ष्मी का भी प्रतीक माना जाता है, इसकी पूजा महालक्ष्मी को प्रसन्न करने वाली होती है।

यह भी पढ़ें : नाख़ूनों पर बना यह निशान बताता है कि जल्द ही आने वाली है ‘मृत्यु’

इसी वजह से जो व्यक्ति नियमित रूप से शंख की पूजा करता है, उसके घर में कभी धन की कमी नहीं रहती। माना जाता है समुद्र मंथन के समय शंख भी प्रकट हुआ था। विष्णु पुराण में बताया गया है कि देवी महालक्ष्मी समुद्र की पुत्री है और शंख को लक्ष्मी का भाई माना गया है। इन्हीं कारणों से शंख की पूजा भक्तों को सभी सुख देने वाली गई है।

प्रेम के अवतार कृष्ण का प्रिय महीना 5 नवंबर से शुरू ही होने वाला है, ऐसे में कान्हा के ध्यान से आपका सब विधि कल्याण ही होगा क्योंकि मार्गशीर्ष के महीने में हर क्षण वासुदेव श्रीकृष्ण की कृपा बरसती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: