ये 6 पाप करने पर भगवान शिव देते है भयंकर दंड

भगवन शिव जो देवो देव महादेव है, संसार के कण कण में बसी हुयी असीम उर्जा शिव है, शिव जी को प्रेम का प्रतिक मन जाता है, उन्हें एक अछे पति के तौर पर भी जाना जाता है और एक अछे पिता के तौर भी उन्हें पूजा जाता है, जो कुवारी लडकिया नंदी के कान में अच्छा पति पाने की इच्छा प्रकट करती है, उन्हें शिवजी कभी निराश नहीं करते, वैसे तो शिवजी भोलेनाथ है, शिव जी को किसी भी स्थान पर पूजा जा सकता है, उन्हें एक लोटा पानी चढ़कर भी प्रसन्न किया जा सकता है, आज मैं आपको शिव पूरण में बताये हुए ऐसे 6 पापो के बारे में बताने जा रहा हु जिन्हें करने पर शिवजी अत्यंत भयंकर दंड देते है।

शादी तोड़ने की कोशिश :

जो भी लड़की शिवजी के वहां नंदी के कान में स्वयं के लिए अच्छा पति मिलने की इच्छा प्रकट करती है, उनपर शिव हमेशा कृपा करते है, लेकिन अगर कोई व्यक्ति किसी दुष्ट वजह से शादी तोड़ने की कोशिश करता है, कोई स्त्री किसी दुसरे के वैवाहिक जीवन में प्रवेश कर उनकी शादी को तोड़ने की कोशिश करती है, ऐसे लोगो को शिवजी अत्यंत भयंकर दंड देते है. जो भी पुरुष किसी दुसरे की पत्नी की तरफ बुरी नजर से देखता है और उनके वैवाहिक जीवन को नष्ट करने का प्रयास करता है तो यह पाप होता है और शिवजी उन्हें कभी माफ़ नहीं करते।

पैसे की धोखेबाजी करना :

अगर आप भोलेनाथ की पूजा आराधना करते है तो भूलकर भी किसी के साथ पैसो को लेकर या अन्य किसी कारण से धोकेबाजी ना करे, पैसो की हेराफेरी करना लूटपाट करना ये पाप की श्रेणी में आता है. शिवजी की नजर में ये एक अक्षम्य पाप है. अतः जितना आपको मिला है उसे शिवजी की कृपा समझ कर जीवन व्यथित करना चाहिए और परिश्रम करते रहना चाहिए, भूल से भी किसी और के धन पर बुरी नजर ना डाले।

कष्ट देने वाला :

भूलकर भी किसी गरीब की या किसी नादान इंसान की कमजोरी का फायदा उठाकर उसे कष्ट नहीं देना चाहिए, इसे घोर पाप माना गया है. अक्सर लोगो किसी भले आदमी का फायदा उठाकर उसे कष्ट देने के बारे सोचते है ऐसे भगवन शिव उस पापी इंसान को दंड अवश्य देते है।

गलत रास्ता अपनाना :

कई बार कोई दुष्ट व्यक्ति जल्दी सफलता पाने के उद्देश से दुष्कर्म करने लगता है, वह जल्दी आमिर बनाने के लिए इश्वर की कही बातो का अनादर कर गलत रास्ता अपनाता है और दुसरो को फसकर आमिर बनजाता है. ऐसे लोगो को भगवन भोलेनाथ किसी भी स्थिति में माफ़ नहीं करते है, उन्हें शिवजी अवश्य दंड देते है।

बुरी सोच :

शिवपुराण के अनुसार किसी भी मानव को अन्य लोगो के प्रति बुरी सोच नहीं रखनी चाहिए, इस सोच के कारन वह इश्वर की नजर में स्वयं को ही दोषी बनारह होता है, बुरी सोच रखकर दुसरो का अनादर एवं अहित करनेवाले मानुष को शिवजी बिलकुल भी क्षमा नहीं करते है।

झूठ बोलनेवाला :

शिवपुराण के अनुसार जो भी मनुष्य दुसरो को नुक्सान पहुँचाने के उद्देश से झूठ बोलता है. उसके साथ छल और कपट करता है, तो वह किसी भी सूरत में क्षमा के योग्य नहीं होता. शिवजी की माने तो वह ऐसे व्यक्ति के ऊपर कभी भी कृपा नहीं करते जो जानबूझ कर झूठ बोके किसी और का अहित करता है, शिवजी उसे दंड देने के योग्य ही समझते है तो ये थे वो ६ काम जिन्हें करने पर शिवजी दंड देते है।

Share this on

Leave a Reply