आज मनाया जा रहा है आस्था का महापर्व छठ, सूर्य को अर्घ्य देंगे भक्त

26 अक्टूबर के सूर्योपासना के महापर्व छठ के चार दिवसीय अनुष्ठान के तीसरे दिन गुरुवार की शाम व्रत रखे सभी भक्त सूर्य को अर्घ्य दें रहे है। छठ पूजा को लेकर पटना, बिहार व राज्य के सभी क्षेत्रों में तैयारियां पूरी हो चुकी है। जहाँ बिहार के मुख्यमंत्री आवास पर भी छठ पूजा की धूम मची हुई है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री रह चुकी राबड़ी देवी के यहाँ भी छठ पूजा की धूम मची हैं।

बिहार की राजधानी पटना के गंगा घाट भी छठव्रतियों के लिए पूरी तरह तैयार हैं। पटना में गंगा के कुल 101 घाटों पर छठपर्व का आयोजन किया गया। सभी घाटों को पूरी तरह लाईटो से सजा दिया गया है जिससे व्रत रखी सभी छठव्रतियों को किसी भी प्रकार से किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। इसका पूरा ख्याल रखा गया है। सभी गांव के घरों से लेकर सभी शहरों व मोहल्लों तक में मनभावन लोक गीतों के साथ साथ पारंपरिक प्रसादों व सूर्य भगवान की अराधना में डूबे हुए लोग दिखाई दे रहे है।

बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी जहाँ अपने परिवार के संग छठ पूजा कर रही हैं, और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सोशल मीडिया पर व्रत का खाना बनाते हुए अपनी मां की फोटो भी शेयर की। वही दूसरी ओर मुख्यमंत्री आवास पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भाभी छठ पूजा कर रही हैं।

यह भी पढे : बॉलीवुड की इस मशहूर अभिनेत्री की ससुराल में कदम रखते ही हुुुुई थी चप्पलों से पिटाई, नाम जानकर दंग रह जाएंगेे आप

छठ व्रत के दूसरे दिन बुधवार को ‘खरना’ के अवसर पर देर रात तक भरी मात्रा में लोगो का भीड़ राबड़ी देवी के आवास व मुख्यमंत्री आवास पर प्रसाद ग्रहण करने के लिए पहुंचते हुए थे। बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी मुख्यमंत्री आवास पहुंचकर खरना का प्रसाद ग्रहण किया।

बिहार की राजधानी पटना के सभी सड़को पर रंग-बिरंगी रोशनी और आकर्षक सजावट हुई हैं, जबकि गंगा घाटों पर तरह से सुरक्षा के इंतजाम किया गया है। छठपर्व मंगलवार से शुरू नहाय-खाय से लेकर चार दिनों के इस अनुष्ठान में खरना के बाद छठव्रती 36 घंटो के लिए निर्जला व्रत रखती हैं। आज शाम छठव्रती नदी, तालाबों सहित विभिन्न जलाशयों में पहुंचकर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य अर्पित करेंगी।

छठपर्व के चौथे और अंतिम दिन यानी शुक्रवार को उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ ही भक्तो के व्रत समापन हो जाएगा। उसके बाद छठव्रती अन्न-जल ग्रहण कर सकेंगी।
Share this on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *