कोई बेचता है पतंग, तो कोई भरता है पेट्रोल, इतना अनोखा है हमारे पीएम मोदी का परिवार

देश के अब तक के प्रधानमंत्रियों से कई दिशाओं में अलग सोच रखने वाले प्रधानमंत्री मोदी अपने परिवार से काफी जुड़ाव रखते हैं परंतु उन्होंने पद ग्रहण करने के बाद अपने परिवार को हमेशा राजनीति की चमक-धमक से दूर ही रखा है|प्रधानमंत्री मोदी के भाई-भतीजे और परिवार के सदस्य उनकी ऊंची अहमियत से दूर लगभग अनजान-सी जिंदगी जी रहे हैं |आज हम आपको बताने वाले है की पीएम मोदी के परिवार का कोई सदस्य पतंग बेचता है, तो कोई पेट्रोल भरता है, तो कोई रद्दी बेचता है|शायद आपको हमारी बातों पर विश्वास ना हो लेकिन ये बिलकुल सच है

आइए जानते हैं कि पीएम मोदी का परिवार किस तरह का है और ये क्या क्या करते हैं  –

प्रधानमंत्री मोदी के पिता दामोदरदास मूलचंद मोदी और उनकी पत्नी हीराबेन के छह बच्चों में से तीसरे नंबर के पर हैं। जिन्होंने अपने परिवार को गुजरात का सीएम और फिर देश का पीएम बनने के बाद भी दुनिया की चका-चौध से दूर रखा जो लोगों को उनके निःस्वार्थ जीवन के बारे में बताने के लिए काफी है

अब हम आपको पीएम मोदी के भाइयों और उनके  बिजनेस के बारे में बताने जा रहे है

सोमनाथ मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी के बड़े भाई सोमनाथ मोदी जो की गुजरात में रहते है और गुजरात में बुजुर्गों की देखभाल के लिए संस्था चलाते हैं। सोमभाई मोदी के बारे में तब पता चला जब वो एक एनजीओ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। उस कार्यक्रम में सोमभाई ने कहा था, मैं नरेंद्र मोदी का भाई हूं, प्रधानमंत्री का नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मैं देश के 125 करोड़ नागरिकों में से एक हूं।

अमृतभाई मोदी

पीएम नरेंद्र मोदी के दूसरे बड़े भाई  हैं जो की फिलहाल अहमदाबाद के गढ़लोढ़िया इलाके में अपने बेटे संजय (47), उसकी पत्नी और दो बच्चों के साथ चार कमरे के एक घर में दुनिया की चका-चौध से दूर जिंदगी बिता रहे हैं।अमृतभाई मोदी जो की एक प्राइवेट कंपनी से बतौर फिटर रिटायर हुए थे और उनकी तनख्वाह सिर्फ 10 हजार रुपए थी।

प्रह्लाद मोदी

प्रह्लाद मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के छोटे भाई हैं जो की  गुजरात के फेयर प्राइस शॉप ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हैं।

इसके अलावा पीएम मोदी के चाचा जी नरसिंहदास जी जिनके दो बेटे हैं जिसमे से

अशोक भाई

पीएम मोदी के चचेरे भाई है अशोकभाई जो की  वाडनगर में एक छोटी दुकान में पतंग, पटाखे और स्नैक्स बेचते हैं।

भरतभाई

अशोकभाई जी से बड़े है  भरतभाई  जी की वडनगर से दूर पालनपुर इलाके  के पास लालवाड़ा गांव के एक पेट्रोल पंप पर काम कर के ही अपना परिवार चलते हैं |

 

 

Share this on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *