तुलसी का पानी पीने से बढ़ता है शरीर का ऑक्सीजन लेवल, होते हैं अन्य कई सारे फायदे

रोज़मर्रा की जिंदगी में, बाजार या फिर ऑफिस जाते समय हर कोई भारी प्रदूषण के संपर्क में आता हैं| ऐसे में जहरीली गैस और गाड़ियों से निकलने वाला धुआँ हमारे साँसो के जरिये हमारे शरीर के अंदर जाता हैं तो कई तरह की सांस संबंधी परेशानियाँ खड़ी करता हैं| दरअसल इस तरह प्रदूषण सिर्फ बाहर निकलने पर ही नहीं बल्कि हमारे घर के आस-पास भी कई ऐसी चीजें हैं जो प्रदूषण को जन्म देती हैं| जिसकी वजह से व्यक्ति अस्थमा, सिरदर्द रहना, खांसी, आंखों की रोशनी कमजोर होना, फेफड़ों में इन्फेक्शन होनी कई तरह की परेशानियों का सामना करता हैं| हालांकि कुछ एहतियात बरत कर हम खुद को स्वस्थ्य रख सकते हैं| ऐसे में आइए जानते हैं कुछ उपायों के बारे में जो हमे स्वस्थ्य रखने में कारगर हो सकती हैं|

अपनाएं ये आसान उपाय

तुलसी का गुनगुना पानी है अमृत

यदि तुलसी के पत्ते से बने काढ़े का नियमित सेवन किया जाए तो इससे आप प्रदूषण के असर को कम कर सकते हैं| काढ़े बनाने के लिए, तुलसी के 10 पत्ते, जरा सी अदरक, गुड़ और दो कालीमिर्च डालकर एक गिलास पानी के साथ उबाल लें और जब यह पानी उबाल कर एक चौथाई रह जाए तब इसे छान ले और ठंडा कर पी ले|

त्वचा में आता हैं निखार

तुलसी ऐसा पौधा हैं जो पूजनीय तो हैं ही, इसके अलावा इसके अंदर कई तरह के औषधीय गुण भी पाएँ जाते हैं| यह कई तरह की बीमारियों से निजात दिलाता हैं और इसके साथ ही यह आपके त्वचा में निखार भी लाता हैं| बता दें कि तुलसी एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल होती है, इसीलिए यह त्वचा संबंधी बीमारियों को दूर करती है और रक्त को साफ करती हैं और इसकी वजह से चेहरे की चमक बढ़ जाती है|

ये प्राणायाम भी शरीर में ऑक्सीजन बढ़ाते हैं

यह भी पढ़ें : साधारण सा दिखने वाला ये पौधा खुजली, पथरी और गंजापन को जड़ से कर देता है खत्म, जानें कैसे करें इसका प्रयोग

यदि आप चाहती हैं कि कम पैसो में आपके शरीर में आक्सीजन की मात्रा बनी रहे हैं तो इसके लिए आप अनुलोम-विलोम, कपालभांति, भस्त्रिका प्राणायाम और ओम का जाप करे| इन्हें मात्रा 15 मिनट करने से आपके शरीर का आक्सीजन लेवल ठीक रहता हैं और इसकी वजह से आप अंदर से काफी रिलैक्स महसूस करते हैं|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on