शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए करें ये विशेष उपाय, मिलेगी विशेष कृपा

हर व्यक्ति शनिदेव की पूजा-अर्चना और कई तरह के उपाय करता हैं ताकि उसे उनकी कृपा प्राप्त हो सके और उसके जीवन में आ रही सभी समस्याओं को शनिदेव दूर कर दे| दरअसल शनिदेव न्याय के देवता माने जाते हैं और वो हर व्यक्ति के साथ न्याय करते हैं| ऐसे में जो लोग अच्छे कर्म करते हैं वो सही मार्ग पर चलकर अपन जीवन यापन करते हैं और उन्हें शनिदेव की कृपा प्राप्त होती हैं, लेकिन जो लोग बुरे कामों में लिप्त होते हैं उन्हें शनिदेव दंडित करते हैं| शनिदेव को लेकर ऐसी मान्यता हैं कि उनकी तिरछी नजर जिसके ऊपर पड़ जाती हैं उसके जीवन में बहुत सारे संकट मंडराने लगते हैं, उस व्यक्ति को किसी भी काम में कामयाबी नहीं मिलती हैं| इसलिए आज हम आपको कुछ उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें करके आप शनिदेव की कृपा प्राप्त कर सकते हैं|

इन उपायों से अति प्रसन्न होते हैं शनिदेव

(1) शनिदेव को जानवर अति प्रिय हैं, खासतौर से काले रंग के जानवर| ऐसे में यदि आप काले कुत्ते को मीठी रोटी में तेल लगाकर खिलाते हैं तो शनिदेव आपसे बहुत प्रसन्न होंगे| इतना ही नहीं शनिवार के दिन बंदरों को भुने चने भी खिला सकते हैं|

(2) यदि किसी व्यक्ति के जीवन में शनिदेव की अशुभ दशा चल रही हैं तो वह मांस-मदिरा का सेवन भूलकर भी ना करे और शनिवार के दिन शनिदेव की पूजा करते समय महामृत्यंजय मंत्र और ॐ नमः शिवाय का जाप करे|

(3) शनिदेव की कृपा प्राप्त करने के लिए आप अपने घर के किसी भी अंधेरे भाग में सरसों का तेल किसी भी लोहे के कटोरी में भरकर रख दे और उसके अंदर एक तांबे का सिक्का भी डाल दे|

(4) यदि आपके ऊपर शनिदेव की ढैया चल रही है तो आप शुक्रवार की रात 800 ग्राम काले तिल को पानी में भिंगो दे और शनिवार की सुबह उसे पीस ले और इसके अंदर गुड़ डालकर लड्डू बना ले और इस लड्डू को काले घोड़े को खिला दे, इस उपाय को आप 8 शनिवार के दिन तक करे|

यह भी पढ़ें : इन 5 उपायों से शनिदेव को कर सकते हैं प्रसन्न, दूर हो जाएगी आपकी सारी परेशानियां

(5) यदि कोई व्यक्ति शनिदेव की साढ़े साती से परेशान हैं तो आप शनिवार के दिन अंधेरा होने पर पीपल के पेड़ पर मीठा जल अर्पित करे| जल अर्पित करने के पश्चात सरसों के तेल का दीपक और धूप-बत्ती करे और फिर वहाँ बैठकर हनुमान चालीसा, भैरव चालीसा और शनिदेव चालीसा का पाठ करे, इसके बाद पीपल के पेड़ की सात बार परिक्रमा करे|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on