दिवाली पूजन के दौरान जरूर शामिल करें ये 8 शुभ चीजें, वरना नहीं मिलेगा पूजा का फल

दिवाली के शुभ दिन महालक्ष्मी की पूजा का विधान है। इस पूजा के साथ ही घर और पूजा घर को सजाने के लिए मंगल वस्तुओं का उपयोग किया जाता है। आइए जानते हैं कि गृह सुंदरता, समृ‍द्धि और दिवाली पूजन के कौन-से 8 शुभ प्रतीक हैं।

(1) दीपक

दिवाली के अवसर पर दीपक का बहुत महत्व होता हैं| दीपक को बनाने में पाँच तत्व अग्नि, वायु, मिट्टी, आकाश और जल को शामिल किया जाता हैं और हिन्दू धर्म में इन पाँच तत्वो का बहुत महत्व होता हैं|

यह भी पढ़ें : इस धनतेरस पर घर में ऐसे रख दें झाड़ू, भगवान धनवंतरी खुद धन से भरेंगे आपका घर

(2) रंगोली

त्यौहार हो या फिर कोई मांगलिक कार्य में रंगोली बनाने का रिवाज हैं| घर के आँगन को साफ करके लोग घर के आँगन के बीचों-बीच रंगोली बनाते हैं और दिवाली के दिन रंगोली बनाना शुभ होता हैं|

(3) पीली कौड़ी

पीली कौड़ी को देवी माँ लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता हैं और कौड़ी का पूजन तांबे या पीतल के साथ पूजन महत्वपूर्ण माना जाता हैं| यदि पीली कौड़ी को लाल कपड़े में बांध कर अपने तिजोरी में रख दिया जाए तो आपके धन में वृद्धि होती हैं|

(4) कुमकुम

भूमि पर कुमकुम से अष्ट दल कमल बनाकर उस पर कलश रखा जाता हैं| कलश तांबे या पीतल का हो और उसमें आम के पत्ते, नारियल को रख कर अष्ट कमल पर रख दे| ऐसा करना शुभ होता हैं|

(5) श्री यंत्र

श्री यंत्र को धन और वैभव का प्रतीक हैं और यह सर्वाधिक लोकप्रिय यंत्र हैं| यह लक्ष्मी को आकर्षित करने वाला माना जाता हैं|

(6) कमल और गेंदे के फूल

कमल और गेंदे के फूल को सुख-शांति और समृद्धि का प्रतीक माना गया हाँ और सभी देवी-देवताओं की पुजा की जाती हैं और इससे घर के सुंदरता बढ़ाने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता हैं|

(7) तांबे के सिक्के

तांबे में सात्विक लहरे उत्पन्न करने की क्षमता अन्य धातुओं की अपेक्षा अधिक होती हैं| कलश में उड़ती हुयी लहरे तांबे के कलश में प्रवेश कर जाती हैं और यदि कलश में तांबे के सिक्के डाले जाए तो इससे घर में सुख शांति के द्वार खुलेंगे।

(8) नवैद और मीठे पकवान

देवी माँ लक्ष्मी को नवैद में फल, मिठाई और पेठे का अलावा धानी, बताशे, शक्कर पाले और गुंझिया का भोग लगाया जाता हैं|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on