हर रोज इस आटे से बनी रोटी का करें सेवन, शुगर पेसेंट को होगा जबरदस्त फायदा

आजकल डाईबिटीज़ और मोटापे की समस्या आम हो गयी है, इन दोनों समस्याओं का गहरा सम्बन्ध खान-पान से हैं, यदि अपने खान-पान में सुधार कर लिया जाये तो तो इन डाईबिटीज़ जैसी बीमारी से बचा जा सकता है। आज हम आपको बताएँगे कि रागी के आंटे बानी चीज़े खाने से आपके स्वास्थ्य में किस तरह सुधार हो सकता है। रागी एक संपूर्ण अनाज माना जाता है। एक सम्पूर्ण अनाज वह होता है जिसमें गुठली के तीन भाग होते हैं – चोकर, रोगाणु और अंतर्बीज जबकि दूसरे रिफाइंड आनाजो में बस अंतर्बीज ही शेष होता है।

हर रोज इस आटे से बनी रोटी का करें सेवन, शुगर पेसेंट को होगा जबरदस्त फायदा

रागी आपको स्वस्थ बनाता है क्योंकि इनमें फाइबर-घने चोकर और अन्य आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जो रिफाइंड करने के कारण नष्ट नहीं होते हैं। रागी एक ऐसा सुपर ग्रेन है जो कि यह एक कठोर फसल है जो उच्च ऊंचाई पर पैदा होती है और कठोर मौसम की स्थिति का सामना कर सकती है, जिससे यह भारतीय जलवायु परिस्थितियों के लिए पूरी तरह से अनुकूल है। उत्तर भारत में इसे लोग बाजरा या नचनी के रूप में अधिक जानते हैं।

रागी के आंटे से बनी रोटी के हैं बहुत फायदे

1. यह डाईबिटीज़ को नियंत्रित करने में मदद करता है। चावल, मक्का या गेहूं की तुलना में रागी अनाज के बीज में पॉलीफेनोल और आहार फाइबर में प्रचुर मात्रा में होता है। इसमें मौजूद कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स आपकी खाने की इच्छा को काम करता है और पाचन गति को बनाए रखता है, फलस्वरूप, ब्लड शुगर सुरक्षित सीमा में रहता है। आपके लिए इसे अपने सुबह या दोपहर के भोजन में शामिल करना सबसे अच्छा है।

हर रोज इस आटे से बनी रोटी का करें सेवन, शुगर पेसेंट को होगा जबरदस्त फायदा

2. रागी आपको वजन घटाने में मदद करता है। इससे बने आहार में फाइबर की उच्च मात्रा होती है जिससे पेट को लंबे समय तक भरा रहता है और अवांछित भूख कम लगती है। रागी शरीर में इंसुलिन को सक्रिय करके आपके ब्लड शुगर के स्तर को कम करता है और वजन पर नियंत्रण पाने में भी सहायक सिद्ध होता है।

3. रागी प्राकृतिक आयरन का एक उत्कृष्ट स्रोत है और इस प्रकार यह एनीमिया के रोगियों के लिए और कम हीमोग्लोबिन स्तर वाले लोगों के लिए भी यह एक वरदान है। रागी को अंकुरित करके खाने से इसमें विटामिन सी का स्तर बढ़ जाता है और रक्त प्रवाह में आयरन के प्रवाह को बढ़ता है। इसका सेवन रागी डोसा या रागी रोटी के रूप में कर सकते हैं।

4. रागी का आटा किसी भी अन्य अनाज की तुलना में कैल्शियम के सर्वोत्तम कैल्शियम स्रोतों में से एक है। भारत में राष्ट्रीय पोषण संस्थान के अनुसार, 100 ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है। कैल्शियम स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए महत्वपूर्ण है इसलिए इसका सेवन सेहत के लिए फायदेमंद है।

Share this on