कौए देते है धन के और मृत्यु के संकेत, अगर ध्यान देंगे तो मिल सकता है खजाना

कौए को अतिथि आगमन का सूचक और पितरों का आश्रय स्थल माना जाता हैं। पुराणों की एक कथा के अनुसार इस पक्षी ने अमृत का स्वाद चख लिया था इसलिए मान्यता के अनुसार इस पक्षी की कभी स्वाभाविक मृत्यु नहीं होती। कोई बीमारी एवं बृद्धावस्था में भी उसकी मृत्यु नहीं होती हैं। इसकी मृत्यु आकस्मिक रूप से ही होती हैं।

जिस दिन किसी कौए की मृत्यु हो जाती हैं उस दिन उसका कोई साथी भोजन नहीं करता हैं। कौआ अकेले में भी भोजन कभी नहीं खाता, वह किसी साथी के साथ ही मिलबांट कर भोजन ग्रहण करता हैं। कौए को भविष्य में घटने वाली घटनाओं का पहले से ही आभास हो जाता हैं। शास्त्रों के अनुसार कोई भी आत्मा कौए के शरीर में स्थित होकर विचरण कर सकती हैं।

माना जाता है कि अगर कौए का झुंड आकर आपके घर पर बैठता है और आपस में लड़ने लगे तो समझिएगा की घर के मालिक पर विप्‍त्ति आने वाली है।

दोपहर से पहले यदी पेड़ पर बैठे कौए का स्‍वर पूर्व या उत्‍तर दिशा से सुनाई दे तो आपका दिन अच्‍छा गुजरने वाला है। इसे पत्‍नी सुख का भी संकेत माना जाता है।

घर के छत पर आकर कौआ अगर दक्षिण की ओर मुंह करके बोले तो ये अच्‍छा नहीं होता समझ जाइएगा कि घर के किसी सदस्‍य की मृत्‍यु होने वाली है।

कहीं जा रहे है और कौआ अगर किसी बर्तन में पानी पीते हुए नजर आ जाए तो ये समझ लिजिएगा कि आपको धन लाभ होने वाला है और आप किसी काम से कहीं जा रहे हैं तो वो काम सफल हो जाएगा।

अगर कोई कौआ मुंह में रोटी का टुकडा या मांस का टुकड़ा लिए दिख जाए तो समझ लिजिएगा कि आपकी कोई बड़ी इच्‍छा पूरी हो जाती है।

अगर कौआ किसी व्‍यक्ति पर आकर बीट करे तो ये अशुभ माना जाता है वहीं अगर कौआ किसी व्‍यक्ति के सिर पर आकर बैठता है तो उस व्‍यक्ति को बुरे दिन का सामना करना पड़ता है।

अगर आप सुबह के समय कहीं जा रहे हैं और कोई कौआ उड़ता हुआ आकर पांव से स्पर्श कर जाए तो यह बड़ा की शुभ शगुन होता है। इससे जीवन में उन्नति मिलती है।

यदि कोइ कौआ सुबह सुबह व्‍यक्ति के आगे आकर लाल रंग की वस्‍तु डाल दे तो आप समझ लिजिएगा कि आपको जेल होगा।

Share this on

Leave a Reply