Sunday, November 19News That Matters

Religion

रविवार के दिन करते हैं ये उपाय तो उन्नति के साथ ही मिलेगा राजपाठ

रविवार के दिन करते हैं ये उपाय तो उन्नति के साथ ही मिलेगा राजपाठ

News, Religion
रविवार सूर्य देव की पूजा का विशेष दिन है। अगर आपके जीवन में कोई भी परेशानी है तो सूर्य देव को प्रसन्न कर अपनी सारी परेशानियों से निजात पा सकते है । सूर्य की कृपा से व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान प्राप्त होता है। साथ ही, नौकरी और भाग्य संबंधी परेशानियां भी सूर्य पूजा से दूर हो सकती हैं। शास्त्रों में सूर्य पूजा के लिए कई मंत्र बताए गए हैं, इन मंत्रों का जप सुबह-सुबह करना चाहिए। रविवार से शुरू करके हर रोज सूर्य मंत्रों का जप करें और सूर्य को जल अर्पित करें। ये उपाय सभी सुख प्रदान करने वाला माना गया है और सूर्य नमस्कार करने से बल, बुद्धि, विद्या, वैभव, तेज, ओज, पराक्रम व दिव्यता आती है। यह भी पढ़े: जन्म के महीने से जानें महिलाओं का स्वभाव किसी व्यक्ति की कुंडली में गरीबी और शत्रुओं से हारना लिखा हो तो उसे सूर्य की पूजा से लाभ प्राप्त होगा। इस दिन सूर्यदेव की विशेष पूजा करने से व्यक्
आज शनि अमावस्या के दिन इन 8 राशियों के खुलने वाले हैं भाग्‍य

आज शनि अमावस्या के दिन इन 8 राशियों के खुलने वाले हैं भाग्‍य

Religion
हम सभी शनिदेव के प्रकोप से बचना और उनकी कृपा हम सब पर बनी रहे यही हम सभी प्रार्थना करते है। अगर आप भी अपने ऊपर शनिदेव की कृपा चाहते हो या फिर आपके ऊपर शनि की साढ़ेसाती या ढय्या चल रही हो तो आज का दिन आप लोगो के लिए बेहद खास है। क्योकि इस बार 18 नवंबर को शनिवार के दिन शनि अमावस्या का योग बन रहा है। जो बहुत ही खास अमावस्या है। ज्योतिषियों की माने तो, यह योग 30 साल बाद बना है जो शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए बहुत ही शुभ व अत्यंत ही फलदाई माना गया है। ज्योतिषानुसार 16 नवंबर को सूर्यदेव ने अपना राशि परिवर्तन किया जिससे वह तुला राशि मे गोचर कर रहें थें। लेकिन 16 तारीख के बाद सूर्यदेव वृश्चिक राशि मे गोचर कर रहें थे और आज शनिवार के दिन अमावस्या होने के कारण कई राशियों के लिए लाभकारी सिद्ध हो सकता है। विशेषतः इन 8 राशियों को अधिक लाभदायक होने की संभावनाए हैं तो आइए जानते हैं सभी राशियों का राशि
18 नवम्बर को है शनि अमावस्या, शनिदोष से मुक्ति पाने का है सबसे अच्छा समय

18 नवम्बर को है शनि अमावस्या, शनिदोष से मुक्ति पाने का है सबसे अच्छा समय

News, Religion
शनिदेव भाग्यविधाता हैं, यदि निश्छल भाव से शनिदेव का नाम लिया जाये तो व्यक्ति के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं, श्री शनिदेव तो इस जगत में कर्मफल दाता हैं जो व्यक्ति के कर्म के आधार पर उसके भाग्य का फैसला करते हैं। 18 नवम्बर 2017 को शनिवार के दिन शनि अमावस्या है जो की बहुत ही शुभ दिन है क्योंकि अमावस्या और शनिवार दोनों एक साथ ही है  इसलिए इस दिन शनिदेव का पूजन सफलता प्राप्त करने एवं दुष्परिणामों से छुटकारा पाने हेतु बहुत उत्तम है। इस दिन शनि देव का विधिवत  पूजन  करने से सभी मनुष्यो की  मनोकामनाएं अवश्य पूर्ण  होंगी और शनि देव की कृपा भी सदैव उनपर बनी रहेगी। यह भी पढ़ें : अपनी राशि के अनुसार जानें किस खूबी के लिए आप हैं मशहूर, इस एक राशि के लोग हमेशा कर देते हैं इरिटेट अमावस्या का विशेष महत्व है और अमावस्या अगर शनिवार के दिन पड़े तो इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है। शनिदेव को अमावस्या अधिक प्रिय है
अपनी राशि के अनुसार जानें किस खूबी के लिए आप हैं मशहूर, इस एक राशि के लोग हमेशा कर देते हैं इरिटेट

अपनी राशि के अनुसार जानें किस खूबी के लिए आप हैं मशहूर, इस एक राशि के लोग हमेशा कर देते हैं इरिटेट

Interesting, Religion
राशि के अनुसार व्यक्ति के स्वभाव और भविष्य से जुड़ी कई जानकारी प्राप्त की जा सकती है। मेष राशि मेष राशि वाले आकर्षक होते हैं। इनका स्वभाव कुछ रुखा हो सकता है। दिखने में सुंदर होते है। यह लोग किसी के दबाव में कार्य करना पसंद नहीं करते। इनका चरित्र साफ -सुथरा एवं आदर्शवादी होता है। वृष राशि इस राशि का चिह्न बैल है। बैल स्वभाव से ही अधिक पारिश्रमी और बहुत अधिक वीर्यवान होता है, साधारणत: वह शांत रहता है, किन्तु क्रोध आने पर वह उग्र रूप धारण कर लेता है। मिथुन राशि मिथुन राशि के जातक हाजिर जवाब और फ़ुर्तीले होते हैं | | इनकी जिज्ञासु प्रवृत्ति और चतुराई इन्हे सामाजिक समारोहो और पार्टी के आकर्षण का केन्द्र बना देती हैं |इनकी जिन्दगी पूरी पूरी की तरह इनकी बातचीत करने की जरुरत के आगे पीछे घुमती हैं | कर्क राशि इस राशि के तहत पैदा हुए लोग, अपने घरों से, अपनी जड़ों, अपने घोंसले से बहुत प्यार
शुक्रवार को अगर करते हैं ये उपाय तो मां लक्ष्मी करेंगी धन की बरसात

शुक्रवार को अगर करते हैं ये उपाय तो मां लक्ष्मी करेंगी धन की बरसात

News, Religion
तंत्र शास्त्र के अनुसार यदि शुक्रवार के दिन माँ महालक्ष्मी की आराधना की जाए तो वो बहुत जल्दी ही प्रसन्न हो जाती है, हालांकि माँ महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए ग्रंथो में कुछ खास उपाय बताए गए है। तो चलिए अब आपको बताते है, कि वो कौन से उपाय है जिनसे माँ महालक्ष्मी शीघ्र प्रसन्न हो जाएंगी और आपको आजीवन धनी बनने का आशीर्वाद देंगी। इसमें सबसे पहले उपाय के अनुसार शुक्रवार की शाम को गाय के घी का दीपक घर के ईशान कोण में जलाए. इस दीपक में थोड़ा सा केसर भी डाले और रुई के स्थान पर लाल रंग के सूती धागे का इस्तेमाल करे। बता दे कि इस उपाय से जल्द ही धन सम्पदा आने के योग बनते है. इसके इलावा दूसरे उपाय के अनुसार शुक्रवार को सात कुंवारी लड़कियों को घर बुला कर उन्हें भोजन करवाएं और भोजन में केसर युक्त खीर तो जरूर खिलाएं. इसके साथ ही उन लड़कियों को दक्षिणा और वस्त्र भी दे, इस उपाय से भी आपको जल्दी ही धन क
आज है वृश्चिक संक्रांति, अगर छात्र करेंगे ये उपाय तो हर परीक्षा में मिलेगी सफलता

आज है वृश्चिक संक्रांति, अगर छात्र करेंगे ये उपाय तो हर परीक्षा में मिलेगी सफलता

Religion
अगर आप सफलता पाने चाहते है और अपने कैरियर को सवारना चाहते है। तो गुरुवार को मार्गशीर्ष कृष्ण त्रियोदशी तिथि पर सूर्यदेव के वृश्चिक राशि में आगमन पर वृश्चिक संक्रांति पर्व मनाया जाएगा। जो छात्रो के लिए अत्यंत शुभ माना गया है। ज्योतिषानुसार सूर्यदेव एक माह में राशि परिवर्तन करते हैं। जब सूर्यदेव किसी राशि में प्रवेश करते हैं, तो उस काल को संक्रांति कहते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार मार्गशीर्ष माह में जब सूर्य राशि परिवर्तन करते हैं तो उस संक्रांति को वृश्चिक संक्रांति कहते हैं। इस संक्रांति में सूर्य तुला से वृश्चिक राशि में प्रवेश करते हैं। भारतीय पंचांग के अनुसार सूर्यदेव तुला राशि से वृश्चिक राशि में गुरुवार को दोपहर 12:36 पर प्रवेश करेंगे। यह संक्रांति गुरुवार पर पड़ने के कारण देव संक्रांति कहलाएगी जो आज है। वृश्चिक संक्रांति से धार्मिक व्यक्तियों, वित्तीय कर्मचारियों, छात्रों व
मंगलदोष से पाना है छुटकारा तो मंगलवार के दिन कर लें इनमें से कोई भी एक काम

मंगलदोष से पाना है छुटकारा तो मंगलवार के दिन कर लें इनमें से कोई भी एक काम

Religion
अक्सर देखा गया है कि जब बच्चों को नजर लग जाती है तो उनकी नजर विशेष रूप से मंगलवार या शनिवार के दिन उतारी जाती है। ऐसा क्यों? इसका सीधा अर्थ यही है कि प्रत्येक वार का अपना अलग महत्व है। सप्ताह के इन वारों का सीधा संबंध विभिन्न ग्रहों से है, इसलिए जिस ग्रह को शांत करना हो, उससे संबंधित उपाय विशेष वार को किए जाते हैं। शास्‍त्रों में भी माना गया है कि अगर आपकी कुंडली में कोई ऐसा ग्रह है, जो आपको कष्ट पहुंचा रहा है, तो आपको उस ग्रह से संबंधित देवी-देवता की आराधना करके उन ग्रहों को और अधिक शक्ति प्रदान नहीं करनी चाहिए। यह भी पढ़ें: शाम के समय भूल से भी ना करें ये 5 काम आती है दरिद्रता क्योंकि कष्टदाई ग्रह की शक्ति बढ़ने से आपके कष्ट में इजाफा ही होगा। हां, उस ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान करने से उस ग्रह की दुष्टता कम होगी और आप का कष्ट कम होगा। मंगल उग्र ग्रह है और इनका वर्ण लाल माना
जन्म के महीने से जानें महिलाओं का स्वभाव

जन्म के महीने से जानें महिलाओं का स्वभाव

Religion, Women
हमारे इस सृष्टि  में स्त्रियों को सबसे रहस्यमय प्राणी समझा जाता है। ऐसा माना जाता है कि जब बड़े-बड़े ज्ञानी-महाज्ञानी स्त्री के स्वभाव और उसके विचारों को नहीं समझ पाए तो तुच्छ मनुष्य की क्या हिम्मत लेकिन ज्योतिष शास्त्र द्वारा हम किसी महिला का व्यवहार तथा उसके भविष्य के बारे में जान सकते हैं। आज हम आपको जन्म के महीने के आधार पर बताते हैं कि किस माह में जन्मीं स्त्रियां कैसी होती हैं, उनके विचार, उनकी सोच और जीवन से उनकी प्राथमिकताएं क्या होती हैं।   जनवरी जनवरी महीने में जन्म लेने वाली स्त्री वक्ता, होशियार, क्रोधी स्वभाव वाली, रतनारे नेत्र वाली, सुंदर रूप- गोरे रंग वाली, धनवान, पुत्रवती और सभी सुखों को पाने वाली होती है। फ़रवरी फरवरी महीने में जन्म लेने वाली स्त्री श्रेष्ठ पतिव्रता, कोमल स्वभाव वाली, सुंदर हृदय, बड़े नेत्रों वाली, धनवान, क्रोध करने वाली तथा मितव्ययी होती है। मार्च म
अगर सुबह सुबह उठते ही कर लेते हैं ये काम तो बन जाएंगे सभी बिगड़े हुए काम

अगर सुबह सुबह उठते ही कर लेते हैं ये काम तो बन जाएंगे सभी बिगड़े हुए काम

Religion
हर इंसान चाहता है की अगर वो मेहनत कर रहा है तो उसका फल भी उसे अवश्य मिलना चाहिए और इसीलिए इंसान किसी काम में सफल होने के लिए दिन रात मेहनत करता है लेकिन कई बार कठिन मेहनत करने के बाद भी उसे मनचाही सफलता नहीं मिल पाती है क्योंकि कभी कभी भाग्य साथ नहीं देता लेकिन ज्योतिष शास्त्रों में ऐसे कई उपाय बताए गए है जिसे अपनाने से सफलता आसानी से मिल जाती है। अगर आप चाहते हैं कि हर काम में आपका भाग्य हमेशा साथ दे तो नियमित रुप से सुबह जल्दी उठना चाहिए। ऐसा करने से आपका पूरा दिन शुभ और एनर्जी से भरा रहता है। सुबह जल्दी उठने से आपका पूरा दिन शुभ होता है इसलिए रोजाना सूर्योदय से पूर्व उठकर नितक्रिया करने के बाद स्नान करने से आपके जीवन में और घर परिवार में सुख और शांति बनी रहती है। पूजा पाठ तो हम रोजाना करते ही है लेकिन अगर आप नियमित गायत्री मंत्र का जाप करते है तो आपके घर से नकारात्मक उर्जा
तिलक लगाने में भूलकर भी ना करें इस अंगुली का प्रयोग

तिलक लगाने में भूलकर भी ना करें इस अंगुली का प्रयोग

Religion
हिन्दू धर्म संस्कृति और परम्पराओ से भरा हुआ धर्म है और इन्हीं परंपराओं में से एक है माथे पर तिलक धारण करना, जिसे एक समय पहले तक धार्मिक तौर पर बहुत जरूरी माना जाता था। भारतीय धर्म में जब भी कोई धार्मिक कार्य, शुभ काम, यात्रा किया जाना होता है तब उसमे सिद्धि प्राप्त करने के लिए तिलक संस्कार किया जाता है। सिर पर तिलक लगाकर इस कार्य की शुभ सिद्धि के लिए कामना की जाती है| तिलक लगाने के लिए भिन्न-भिन्न अंगुलियां का प्रयोग  करना अलग-अलग फल प्रदान करता है और साथ ही गलत अंगुली के प्रयोग से व्यक्ति की मौत भी हो सकती है। तो आइये बताते है की कौन सी अंगुली का प्रयोग करना चाहिए तिलक लगाने के लिए। अनामिका अंगुली अनामिका अंगुली से तिलक करने से मानसिक शक्ति का विकास होता है और शांति मिलती है क्योंकि इस अंगुली का सम्बन्ध सूर्य से है और इसीलिए पूजा पाठ में इसी अंगुली से तिलक किया जाता है।   म