बॉलीवुड की इस मशहूर अभिनेत्री की ससुराल में कदम रखते ही हुुुुई थी चप्पलों से पिटाई, नाम जानकर दंग रह जाएंगेे आप

बॉलीवुड में रेखा को एक ऐसी एक्ट्रेस के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अभिनेत्रियो को फिल्मो में परम्परागत रूप से पेश किये जाने के तरीके को बदलकर अपने बिंदास अभिनय से दर्शको के बीच अपनी ख़ास पहचान बनाई है। बॉलीवुड की सदाबहार एक्ट्रैस रेखा का फ़िल्मी करियर जितना शानदार रहा है उतनी ही उतार-चढ़ाव से भरी रही है उनकी पर्सनल लाइफ रही जिसमे उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रेखा की पूरी ज़िंदगी रहस्यों से भरी हुई है। वैसे तो उनके जीवन में कई मर्द आये मगर रेखा की सच्चे प्यार की जो तलाश थी वो हमेशा अधूरी ही रही।

एक कामयाब एक्ट्रैस होने के बावजूद रेखा की जिंदगी में एक समय ऐसा भी आया जब उन्हे विनोद मेहरा की माँ से चप्पलो की मार भी खानी पड़ी। ये बात उस समय की है जब विनोद मेहरा और रेखा के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी थी और बेबस रेखा सिर्फ इसलिए पिटती रही क्योंकि वो विनोद मेहरा से बेहद प्यार करती थी और उन्हे अपना जीवन साथी भी मान लिया था। बता दे की रेखा से विनोद की मुलाकात फिल्म ‘घर’ के सेट पर हुई और शूटिंग के दौरान ही दोनों करीब आते गए और एक समय ऐसा आया जब दोनों ने शादी करने फैसला कर लिया और कोलकत्ता के एक मन्दिर में दोनों ने शादी कर ली और उनकी शादी के गवाह बने मौसमी चटर्जी और उनके पति रितेश चटर्जी।

बता दे की शादी के कुछ दिनों तक विनोद मेहरा और रेखा एक साथ कोलकत्ता में ही रहे और फिर विनोद रेखा को लेकर मुंबई अपने घर पर आ गए। विनोद की माँ कमल मेहरा इस शादी से बिलकुल अनजान थी और वे रेखा को दुल्हन के रूप में देख कर आग बबुला हो गयी। आपको बता दे की जब रेखा उनके पाँव छूने के लिए आगे बढ़ी तो रेखा को आशीर्वाद के रूप में चप्पल पड़े और उन्हें अपनाने से भी इनकार कर दिया जिसके बाद विनोद ने रेखा को वापस उनके घर पंहुचा दिया। विनोद मेहरा ने रेखा से शादी तो कर ली लेकिन अपनी मां के खिलाफ़ जाकर रेखा को अपनाने का हौसला नहीं जुटा पाए।

रेखा और विनोद का दोस्ती का रिश्ता शादी में बदल तो गया लेकिन रेखा को ना ही पत्नी का दर्जा मिल सका और न ही ससुराल में बहु की जगह। इतना सब सहने और विनोद की माँ के रूखे बर्ताव बावजूद रेखा लंबे समय तक विनोद का इंतजार करती रही मगर विनोद अपनी माँ के खिलाफ नहीं जा सके और रेखा का साथ भी नहीं निभा पाये। वो कहते है ना इंसान हर चीज पा सकता है लेकिन सच्चा प्यार सिर्फ किस्मत वालो को ही मिल पाता है। बहुत इंतज़ार के बाद जब विनोद रेखा की जिंदगी में लौट के नहीं आये तब रेखा ने जिंदगी में आगे बढ़ने का फैसला किया और किरण कुमार के साथ उन्होंने अपनी जिंदगी के बाकि लम्हों को जीने का फैसला किया।

Share this on

Leave a Reply