भारत बंद : ट्रेड यूनियनों की हड़ताल का दिखा असर, बैंक-दुकाने बंद कर सड़कों पर हुआ प्रदर्शन

केंद्रीय ट्रेड यूनियन की हड़ताल की वजह से 8 से 9 जनवरी को बैंक प्रभावित रहेंगे। इस दिन पूरा भारत बंद रहेगा और इसमें बैंक के कार्यकर्ता भी शामिल होने वाले हैं। इस बैंक के हड़ताल को लेकर आईडीबीआई बैंक तथा बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने ग्राहकों को इसकी सूचना दे रखी है।सूत्रों के अनुसार भारत बंद के आहवाहन को लेकर सेंट्रल ट्रेड यूनियनों ने संयुक्त बयान के द्वारा सोमवार को ये सूचना दी की लगभग 20 करोड़ बैंक कर्मचारी इस हड़ताल में शामिल होने वाले हैं। इसमें आम जानता को काफी दिक्कत आ सकती है जैसे कि उन्हें बैंक तथा दूसरे कई विभागों से संबंधित कामों के लिए परेशानियों को झेलना पड़ सकता है।

मुंबई बस सेवा पूरी तरह प्रभावित

बीईएसटी ( बृहनमुंबई इलेक्ट्रिक सप्लाई एंड ट्रांसपोर्ट ) के कर्मचारी भी अपनी मांगों के लिए अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल पर रहने वाले हैं। इसकी वजह से आम इंसान को दिक्कतें आ रही हैं।

यह भी पढ़ें : करीब 10 दिनों तक इन 22 राज्यों में नहींं मिलेगा सब्जी और दूध, जानें आखिर क्‍या है वजह

दिल्ली में एआईसीसीटीयू का विरोध प्रदर्शन

ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियन्स के मेंबर्स के सार्वजनिक रूप से तथा सरकारी क्षेत्र के निजीकरण के खिलाफ दिल्ली के पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया में विरोध करते हुए नजर आए। इस विरोध में उन्होंने न्यूनतम मजदूरी तथा सामाजिक सुरक्षा की मांग की है।

कर्नाटक के हुबली में विरोध प्रदर्शन

पश्चिम बंगाल : रेलवे लाइन ब्लॉक किया

पश्चिम बंगाल के हावड़ा में रेलवे लाइन को जाम कर दिया गया है इससे साफ स्पष्ट हो रहा है कि ममता बनर्जी की बातों का लोगों पर कोई असर नहीं है।

गुवाहाटी में ट्रेन रोकी गई

असम राज्य के गुवाहाटी क्षेत्र में केंद्रीय ट्रेंड यूनियन के द्वारा न्यूनतम मजदूरी के साथ साथ सामाजिक सुरक्षा की मांग भी की गई है। उन लोगों ने इस हड़ताल के दौरान ट्रेन सेवा को बाधित किया।

बंगाल में नहीं होगा बंद : ममता बनर्जी

ममता बनर्जी ने ये दावा किया है कि जो हड़ताल ट्रेड यूनियनों के द्वारा बुलाई गई है उसका बंगाल में कोई असर नहीं होने वाला। मीडिया के अनुसार पश्चिम बंगाल की मुख्य मंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वे इस बात पर एक शब्द भी नहीं बोलना चाहती हैं। उन्होंने ये भी कहा कि वो इस बंद को समर्थन नहीं देने का फैसला ली हैं तथा ये भी कहा कि बीते 34 सालों में वाम मोर्चे ने बंद कर के पूरे राज्य को पहले ही बर्बाद कर दिया है अब और ऐसा नहीं होगा तथा कोई बन्द नहीं होने वाला। राज्य सरकार द्वारा ये ऎलान किया गया है कि मंगलवार तथा बुधवार के दिन उनके कर्मचारियों के आधे दिन के लिए छुट्टी तथा इमरजेंसी छुट्टी लेने पर भी रोक लगा सकती है।

Share this on