बसंत पंचमी 2019 : जानें कब मनाई जा रही है बसंत पंचमी, इन उपाय को करने से होगी विद्या की प्राप्ति

वसंत पंचमी का त्यौहार पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं| इसके साथ ही देश के विभिन्न क्षेत्रो में मेलो का आयोजन भी किया जाता हैं| यह माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को वसंत पंचमी के नाम से जाना जाता हैं| इस दिन को बुद्धि और विद्या की देवी माँ सरस्वती के जन्मदिवस के रूप में मनाया जाता हैं और लोग इस दिन माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना करते हैं, इतना ही नहीं विद्यार्थी इस दिन पाठ्य-सामग्री की पूजा करते हैं| इसलिए आज हम आपको वसंत पंचमी के शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस दिन किए जाने वाले उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं|

शुभ मुहूर्त व तिथि

इस साल वसंत पंचमी का पर्व 10 फरवरी 2019 रविवार को मनाया जाएगा और इस दिन सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त 7 बजकर 15 मिनट से 12 बजकर 52 मिनट तक का होगा| इसके अलावा पंचमी की तिथि 9 फरवरी 2019 शनिवार को 12 बजकर 25 मिनट पर शुरू होगा और वहीं पंचमी की तिथि 14 बजकर 8 मिनट पर समाप्त होगा|

पूजा विधि

मान्यताओं के मुताबिक माँ सरस्वती की पूजा सर्वप्रथम भगवान श्री कृष्ण द्वारा की गयी थी और सरस्वती पूजा के लिए वसंत पंचमी का दिन सर्वश्रेस्थ माना जाता गया हैं| इस दिन प्रात: काल उठाकर स्नान करने के बाद पीले वस्त्र धारण करे और फिर माँ सरस्वती की पूजा के लिए उनकी तस्वीर या मूर्ति को मंदिर में स्थापित करे| मूर्ति या तस्वीर स्थापित करके कलश की स्थापना कर भगवान गणेश और नौ ग्रहों की विधिवत पूजा करे| इसके बाद ध्यान पूर्वक माँ सरस्वती की आराधना करे| माँ सरस्वती की पूजा के लिए उन्हें स्नान कराये और फिर उनका श्रृंगार कर उन्हें पुष्प, मिष्ठान व दूध आदि चीजों का भोग लगाएँ| इसके बाद माँ सरस्वती के मंत्रो का जाप कर उनसे विद्या का वरदान मांगे| पूजा समाप्त होने के बाद प्रसाद का वितरण सभी लोगों में कर दे|

यह भी पढ़ें : बसंत पंचमी विशेष : जानें मां सरस्वती के पूजन में पीले रंग का क्यों है महत्व?

विद्या प्राप्ति के लिए यह उपाय करें

(1) वसंत पंचमी के दिन माँ सरस्वती की पूजा करने से विद्यार्थियों को विद्या का वरदान मिलता हैं और कई जगहों पर इस दिन शिशु को पहला अक्षर लिखना भी सिखाया जाता हैं क्योंकि विद्या आरंभ के लिए यह दिन शुभ माना जाता है|

(2) इस दिन सर्वप्रथम उठकर स्नान कर ले और फिर माँ सरस्वती की पूजा-अर्चना करने के बाद सभी देवी-देवताओं और अपने गुरुजनों का आशीर्वाद अवश्य प्राप्त करे|

(3) माँ सरस्वती की कृपा पाने के लिए इस दिन पीले वस्त्र का धारण अवश्य करे|

(4) इस दिन माँ सरस्वती को चन्दन का तिलक करे और पीले पुष्प अर्पित करे और संभव हो तो इस दिन गरीबों में विद्या से जुड़ी वस्तुओं का दान करे|

(5) माँ सरस्वती की स्तुति के बाद संगीत की आराधना करे क्योंकि संगीत से जुड़ी चीजों में भी देवी सरस्वती का निवास माना जाता हैं|

( हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
Share this on