रोचक: रामायण के अनुसार दीपावली के दिन बनाया जाता है यह पकवान, 70 प्रतिशत लोग नहीं जानते हैं ये

दीपावली का त्योहार पूरे भारत देश में बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है। इस दिन की ऐसी मान्यता है की भगवान श्री राम जब अयोध्या वापस लौट कर आए थे तो अयोध्यावासियों ने उनके आने की ख़ुशी में पुरे अयोध्या को दीपो से सजाकर उनका स्वागत किया था, उसी दिन से अब तक दीपावली मनाई जाती है। बता दें की दीपावली को दीपो का त्योहार भी कहा जाता है।

इस त्योहार को सारे भारतीय हर्षो उल्लास के साथ मनाते है। दीपावली आने से कई दिन पहले ही इसकी तैयारियाँ शुरू होने लगती है, लोग अपने घरो की साफ-सफाई में पहले से ही जुट जाते है, घर की मरम्मत, रंग-रोगन सारी चीजे करवाते है। इस त्योहार के आने से पहले ही घर-मोहल्ले,बाजार सब साफ-सुथरे नजर आने लगते है। दीपावली के त्योहार में लोग तरह-तरह के पकवान बनाते है और अपने संगे-संबंधियों के साथ मिलकर इस पर्व को सेलिब्रेट करते है।

ये भी पढ़े इस धनतेरस पर घर में ऐसे रख दें झाड़ूू, भगवान धनवंतरी खुद धन से भरेंगे आपका घर

इस दिन पकवान में खास तौर पर चावल बनाना शुभ माना जाता है। इसकी चर्चा वैदिक शास्त्रों में भी की गई है लेकिन लोग तो कई तरह के पकवान बना देते है किन्तु इस खास सामग्री को नहीं बनाते। चावल भगवन श्री राम की अति प्रिय भोजन है इसलिए इस दिन खास तौर पर चावल बनाना चाहिए। रामायण के समय से ही इस भोजन (चावल) को बनाने की प्रथा चली आ रही है।  रिसर्च के अनुसार भारत देश में लगभग 70% लोग इस दिन अपने बनाए गए पकवान में चावल को शामिल नहीं करते। या तो वे भूल जाते है या उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं होती।

लेकिन हमने आज आपको इस खास चीज़ की जानकारी दे दी है तो आप अवश्य ही दीपावली के पकवान में चावल को शामिल करे। दीपावली के दिन माँ लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा पुरे मन से करने से घर में किसी प्रकार की समस्या नहीं आती।

विडियो :

Share this on