फिल्म ‘डर’ ने पूरे कर लिए अपने 24 साल, इसके बाद से कभी एक साथ नहीं दिखें सनी देओल व शाहरुख, जानें क्‍या है कारण

बॉलीवुड के स्टार शाहरुख खान ने दर्शको के दिलो में अपनी एक अलग छवि बना रखी है, जिन्हें सभी लोग काफी पसंद करते है। ऐसे में शरुखान ने अपनी करियर में कई बॉलीवुड फ़िल्में की जिसमे वो कभी हीरो तो कभी विलन के रूप में सभी लोगो का दिल जित लिया। अगर अनके निगेटिव रोल की बात की जाए तो उन्होंने फिल्म ‘डर’ में काफी अच्छा किरदार निभाया था, जिसको अब 24 वर्ष पूरे हो चुके हैं।

यशराज द्वारा बनाई गयी इस फिल्म में शाहरुख खान एक ऐसे हिंसक प्रेमी का किरदार निभाये है, जो अपनी प्रेमिका से शादी करने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है। इस फिल्म से जुड़े ऐसी कई बाते है जिन्हें जानकार आप काफी हैरान हो जाएँगे तो चलिए आज हम आपको इस फिल्म से जुड़ी ऐसी कुछ दिलचस्प बातें बताते है, जिनके बारे में आप नही जानते है।

फिल्म ‘डर’ को तैयार करते वक्त सुपरस्टार सनी देओल शाहरुख खान की अपेक्षा काफी प्रसिद्ध अभिनेता थें इसलिए उन्हें इस फिल्म में सुनील मल्होत्रा ​​और राहुल मेहरा के बीच एक किरदार चुनने का मौका मिला। उस समय सनी ने सुनील मल्होत्रा ​​का किरदार चुना और शाहरुख को राहुल मेहरा का किरदार दिया गया लेकिन इस फिल्म में हिसंक प्रेमी यानि विलेन का किरदार निभा रहे शाहरुख को सनी देओल के मुकाबले ज्यादा पसंद किया गया।

यह भी पढ़े :-ये हैं बॉलीवुड के मशहूर खलनायक की खुबसूरत बेटियां , इनके आगे हिरोइनें भी हैं फेल

इस फिल्म में राहुल मेहरा के रोल के लिए शाहरुख खान पहली पसंद नहीं थे। इस रोल के लिए सबसे पहले अजय देवगन को चुना गया था लेकिन उस समय अजय देवगन एक फिल्म की शूटिंग के चलते काफी व्यस्त थे। बाद में यह रोल आमिर खान को दिया गया लेकिन कुछ झगड़ो के चलते उन्होंने भी इस फिल्म से इनकार कर दिया। आखरी में यह किरदार शाहरुख खान को दिया गया।

यह भी पढ़े :-ये हैं वो 8 फिल्में जिन्‍हें आप अकेले में ही देख सकते हैं, बच्चों के साथ देखा तो हो जाएगी मुसीबत

इस फिल्म के निर्माता यश चोपड़ा को फिल्म ‘डर’ बनाने का विचार तब आया जब वो ऋतिक रोशन और उदय चोपड़ा के साथ हॉलीवुड फिल्म ‘डेड काम’ देख रहे थे तभी ऋतिक रौशन ने उन्हें ‘डर’ नाम का शीर्षक दिया। इस फिल्म से जुडी हुई सबसे खास बात यह रही है कि यह फिल्म बन्ने के बाद शाहरुख खान और सनी देओल कभी भी किसी फिल्म में एक साथ काम नहीं किया। एक इंटरव्यू के समय में सनी ने यह बताया कि जब फिल्म ‘डर’ बनाई जा रही थी, तो मुझे इस बारे में नहीं बताया गया था कि इस फिल्म में विलेन को हीरो से ज्यादा दमदार दिखाया जाएगा।

मैं अपनी फिल्मों के बारे में पहले ही निर्देशक से सारी बातें जान लेता हूँ लेकिन जब मुझे बाद में पता चला कि इस फिल्म का अंत कुछ ऐसा होगा तो मैं हैरान रह गया। जब मुझे बताया गया कि शाहरुख मुझे चाकू मारकर चला जाएगा तो मुझे इस बात पर बहुत गुस्सा आया लेकिन मैंने किसी तरह से अपने गुस्से को काबू में किया। मुझे शाहरुख और यशराज बैनर से कोई दिक्कत नहीं है लेकिन मुझे झूठ जरा भी पसंद नहीं है। यही कारण था, जिसकी वजह से मैं पिछले 24 सालों में कभी भी यशराज के साथ काम नहीं किया।

इस फिल्म के दौरान शाहरुख खान अपने किरदार को लेकर काफी सोच में पड़े थे, उनको यह लग रहा था कि यह रोल उनके करियर को ले डूबेगा हालांकि ऐसा कुछ हुआ नहीं बल्कि इसके चलते शाहरुख रातों रात सुपरस्टार बन गए।

यदि आप भी यह सोचा करते हैं कि केवल बॉलीवुड ही हॉलीवुड की फिल्मो को कॉपी करता है तो यह सोच आपकी गलत है क्योंकि इस फिल्म को देखने के बाद सन् 1996 में हॉलीवुड फिल्म ‘फियर’ बनाई गई।

फिल्म ‘डर’ बॉलीवुड के इतिहास में एक ऐसी फिल्म में है, जिसमे पहली बार किसी हीरों से ज्यादा विलेन अधिक फेमस हुआ था।
Share this on

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *